नौकरी और पढाई को एक साथ कैसे मैनेज करें

नौकरी और पढाई को एक साथ कैसे मैनेज करें

नौकरी और पढाई दोनों साथ-साथ करना कोई आसान काम नहीं है। बहुत काम लोग ही पढाई के दौरान किसी तरह की नौकरी कर पाते है। आइये जाने दोनों के बीच तालमेल बिठाकर आप किस तरह पढ़ाई के साथ साथ आर्थिक रुप से निर्भर बन सकते है। तो चलिए जाने नौकरी और पढ़ाई कैसे मैनेज करे।

नौकरी और पढाई को एक साथ कैसे मैनेज करें

नौकरी और पढाई की जानकारी हिंदी में ->> नौकरी और पढ़ाई एक साथ करना कितना मुश्किल होता है यह सिर्फ वही समझ सकता है जो एक साथ नौकरी और पढ़ाई मैनेज करता है। लेकिन अपनी किसी मजबूरी की वजह से ही हमें एक साथ नौकरी और पढ़ाई मैनेज करने की जरूरत पड़ जाती है। ऐसे में उन लीगो के लिए जो पढ़ाई के साथ साथ नौकरी भी करते है ये जान लेना बहुत जरूरी है की हम अपनी नौकरी और पढ़ाई को एक साथ मैनेज करने के लिए क्या क्या कर सकते है। आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बतायंगे की कैसे पढ़ाई और नौकरी को एक साथ कैसे मैनेज करे।

नौकरी और पढाई मैनेज करने के कुछ आसान टिप्स

समय का मैनेजमेंट ->> पढ़ाई के साथ नौकरी करने के लिए सबसे जरूरी है टाइम मैनेजमेंट। आप अपने टाइम को जितनी कुशलता से बाटेंगे, आपको दोनों कामो में उतनी ही सफलता मिलेंगी। अतः पढ़ाई के लिए पर्याप्त समय निकालकर ही पार्ट टाइम जॉब के लिए अप्लाई करे। अगर आप सुबह कॉलेज जाते है तो दोपहर के बबाद का वक्त नौकरी को दे।

फालतू चीजों को त्यागे ->> पढ़ाई के साथ आर्थिक रूप से सक्षम होने के लिए आपको अपने दिनचर्या से जुडी चीजों का त्याग करना होगा उदाहरण के तोर पर आप यदि प्रतिदिन दो घंटे टीवी देखते है या बहर दोस्तों के साथ घूमने जाते है तो आपको इन पर रोक लगानी होगी। पार्ट टाइम जॉब करने पर भी आपको अपना डेली रुटीन अनुशासित करना होगा।


पढ़ाई को प्राथमिकता दे ->> पढाई के दौरान नौकरी करते समय इस बात का खास ध्यान रखे की आप पढ़ाई को बोझ समझे। पढ़ाई आपकी प्राथमिकता है, यह बात आपको हमेशा ध्यान रखनी होगी। बेहतर होगा की आप कोई ऐसा अपने खुद का निर्धारित जॉब चुने, जिसमे पढ़ाई के हिसाब से देर से जाने या कई बार जाना संभावित हो और इससे आपकी नौकरी पर कोई आंच आये।

पार्ट टाइम जॉब ही करे ->> बेहतरीन योजना की जरूरत पढ़ाई के साथ जॉब करने के लिए सबसे जरूरी है सही प्लानिंग। तभी आप दोनों काम अच्छी तरह से कर सकते है। साथ ही किसी एक को दूसरे पर हावी होने दे। पढ़ाई के बाद बचे हुए वक्त में ही नौकरी के बारे में सोचे। अच्छा होगा की पढ़ाई के साथ पार्ट टाइम जॉब भी करे, की फुल टाइम।

पढ़ाई के साथ आर्थिक रूप से सक्षम होने के लिए आपको अपनी रोजाना से जुडी कुछ चीजों को त्याग करना होगा। आपको हर काम निश्चित समय में पूरा करना होगा।


सुबह 5 बजे जागकर अपनी पढ़ाई पूरी कर ले ->> यह एक बहुत अच्छा तरीका पढ़ाई करने का। आप सुबह कम से कम 5 बजे जग जाये और मुँह हाथ धोकर फ्रेश हो जाये। अगर आपको चाय बनाना आता है तो आप गैस एक कप चाय बना लीजिये। चाय पिने के बाद आपकी नींद पूरी तरह से खुल जायगी और आप बहुत फ्रेश फील करेंगे। उसके बाद आप अपने कमरे की लाइट ऑन कीजिये और पढ़ाई करने बैठ जाये। आप अगर 5 बजे जागकर उस टाइम से पढ़ाई करना प्रारम्भ करेंगे तो आप कम से कम दो घंटे आराम से पढ़ पायंगे।

7 बजे तक पढ़ाई करने बाद आप अपनी किताब को रखकर अपने बाकी कामो को कर सकते है। आपको सात बजे तक पढ़ाई करने में कोई दिक्कत नहीं होगी क्योंकि लोग नॉर्मली सात बजे तक जागते है तो आप भी शोरगुल से मुक्त होकर दो घंटे आराम से पढ़ सकते है और सात बजे से अपनी फैमली को ज्वाइन कर सकते है। इसके बाद अगर आप पुरे दिन भी नहीं पढ़ेंगे तो भी आपकी पढाई में कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी।


होम जॉब चुने ->> अगर आप एक छात्र है और नौकरी भी करना चाहते है तो मेरी सलाह है की आप कोई ऐसा जॉब चुने जो आप अपने घर से कर सकते है। खासकर ऑनलाइन के माध्यम से ऐसे जॉब बड़ी आसानी से मिल जाते है बस थोड़ा सा नॉलेज, एक कंप्यूटर और इंटरनेट की जरुरत पड़ सकती है। आजकल इंटरनेट के जमाने में हमारे लिए एक होम जॉब ढूंढ़ना ज्यादा मुश्किल भी नहीं है। अगर आप लोग घर पर रहकर करेंगे तो आपके ऊपर काम का ज्यादा प्रेसर नहीं होगा और आप लोग जितना काम करेंगे आपको उतना ही पैसा मिलेगा। ऐसे में अगर आपको किसी दिन ज्यादा पढाई हो या कोई जरूरी काम हो तो आप उस दिन काम नहीं भी करेंगे तो कोई फर्क नहीं पड़ेगा। अगर आप होम जॉब करेंगे तो आप अपना टाइम भी बड़ी आसानी से मैनेज कर पायंगे। तो मुझे लगता है की आप लोगो के लिए यह सबसे अच्छा ऑप्शन है पढ़ाई भी करने का और पढ़ाई के साथ साथ नौकरी भी करने का।


तो जब आप लोगो को पता चल गया है की हम अपनी जॉब और पढ़ाई लो एक साथ कैसे मैनेज कर सकते है तो बस आप लोग इन टिप्स को आजमाए और अपनी नौकरी और पढ़ाई को एक साथ अच्छे से मेन्टेन करिये।



0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.