अच्छी आदत डालने के आसान तरीके

अच्छी आदत डालने के आसान तरीके

आदतें कुदरती की भांति जन्मजात नहीं होती; वे सीखे गए पर्यटनो या प्रतिक्रियाएँ होती हैं। वे बेसबब उत्पन्न नहीं होती हैं। उनकी कोई कोई वजह ज़रूर होती है। एक बार जब किसी स्वभाव के मूल वजह का पता चल जाता है, तो उसे अनुमति या इनकार करना आपकी मनबुद्धि में होता है। ज्यादातर बहुत से इंसान अपनी आदतों को अपने आप पर काबू पाने की इजाज़त दे देते हैं। अगर वे आदतें बुरी हो, तो उनके नजरियो पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता हैं। अगर आप लोग अच्छी आदत डालना चाहते है तो आप लोगो को सबसे पहले अपनी बुरी आदतों से पीछा छुड़ाना होगा। अगर आप लोगो को अपनी बुरी आदतों से पीछा छुड़ाना है तो आप लोगो को पहले उन आदतों की सूचि बनानी होगी। क्योकि जब तक आप लोग अपनी उन बुरी आदतों की सूचि नहीं बनायेगे तब तक आप लोगो को ये समँझ में नहीं आएगा की आप लोगो में कौन कौन सी बुरी आदते है।

अच्छी आदत डालने के आसान तरीके

जब आप लोगो को ये पता चलेगा कि आप लोगों में किस किस प्रकार की सी अयोग्य आदते है तब आप लोग अपनी उन व्यवहारों को सुधारने के लिए कोशिस कर पाएंगे लेकिन अगर आप लोगो को ये पता ही नहीं होगा की आप लोगो की बुरी आदते कौन कौन सी है तो उन आदतों को सुधारना तो दूर की बात है। इसलिए आप लोगो को लिए हमारी ये स्पेशल सलाह है की आप लोग चाहे जैसे भी हो पहले ये पता लगाए की आप लोगो की बुरी आदते कौन कौन सी है। उसके बाद उन आदतों को दूर करने का प्रयास करे। आप लोगो को ये पता लगाने के लिए कि आप लोगो के अंदर कौन कौन सी बुरी आदते है, आप लोगो को पहले अपने आपको अंदर से तरसना होगा। आप लोगो को खुद को महसूस करना होगा। जब आप लोग शांति से बैठकर खुद के ऊपर विचार करेंगे तो आप लोगो को ये समँझ में जायेगा की आप लोगो के अंदर कौन कौन सी बुरी आदते है। आप लोग खुद की बुराइयों को सामने लाने के लिए अपने आपको थोड़ा वक़्त दे।

यह भी पढ़ें ->> सफलता कैसे पाएं

अकेले में जब भी आप हो तब अपने अंदर की बुरी आदतों को समझे। समझने के बाद उन बुरी आदतों की एक सूचि बनाये। इस तरह से आप लोग अपने अंदर की  बुरी आदतों को बहार निकाल पाएंगे और उन बुरी आदतों की सूचि बना पाएंगे। जब आप इस बात का पता लगाने में सफल हो जायेंगे की आपके अंदर कौन कौन सी बुरी आदते है तब आपका ये फ़र्ज़ बनता है की आप अपने अंदर छिपे बुरी आदतों को मिटाने के लिए कोशिस करे। अब बारी है ये सोचने की हम अपने अंदर की बुरी आदतों को मिटाये तो मिटाये कैसे। क्योकि बुरी आदतों से पीछा छुड़ाना उतना भी आसान नहीं है जितना सोचने में हमें लगता है। बुरी आदते कई तरह की हो सकती है यानि के बुरी आदतों की कोई सीमा नहीं होती है।

अलग अलग तरीके ढूंढे ->> तो हर एक बुरी आदत को छुड़ाने के लिए इस्तेमाल किया गया तरीका भी अलग अलग होना चाहिए। हम हर एक आदत को छुड़ाने के लिए एक ही तरीका अप्लाई नहीं कर सकते। कुछ लोगो को सुबह देर से जागने की बुरी आदत होती है तो कुछ लोगो को सिगरेट पिने की बुरी आदत होती है। तो ऐसे में हम इन दोनों बुरी आदतों को छुड़ाने के लिए एक ही तरीका अप्लाई नहीं कर सकते है।


अगर आप सोच रहे है की अच्छी आदत कैसे डाले तो आप लोग अपनी अलग अलग तरह की बुरी आदतों को छुड़ाने के लिए किसी अनुभवी  इंसान की सहायता ले सकते है। या फिर कोई और तरीका भी अपना सकते है। लेकिन ज़रूरी है वो तरीके उपयोगी हो और आपको बुरी आदतों को छोड़ने में सहायता करे।


अच्छी आदतों को निर्धारित करे ->> आपको उन आदतों को छोड़ने के प्रयाश करने के साथ साथ ये भी सोचना होगा की उन आदतों की जगह पर आप लोग किन किन आदतो को अपनायेगे। जब आप लोग ये तय कर लेंगे की आप लोगो को आखिर किन किन आदतों को अपनाना है तब ही आप उन कार्यो को अपनी जिंदगी में शामिल कर पाएंगे और उन आदतों से उपकृत हो जाएँगे। तो जब आप लोग ये तय कर ले कि आप लोगो को कौन कौन सी आदतों को अपनाना है तब बारी आएगी उन आदतों को जिंदगी में लेन की।


तो आप लोग उन अच्छी आदतों को  जिंदगी में कैसे लाये ये जानने के लिए किसी अनुभवी इंसान की सहायता लेनी चाहिए। इसके अलावा भी आप लोग इस काम को करने के लिए कोई और तरीका इस्तेमाल कर सकते है। आप लोग शांति से बैठे और सोचे की किस तरीके को अपनाकर आप लोग सही और अच्छी आदतों को अपनी जिंदगी में शामिल कर सकते है।


अच्छी आदतें छोड़े नहीं ->> हमारी आप लोगो से यही विनती है की आप लोग सोच समझकर ही कोई भी फैसला ले और अच्छी आदतों को जिंदगी में शामिल करने के लिए इस्तेमाल करे। आप लोगो ने जिन जिन आदतों को अपनी जिंदगी में शामिल करने के लिए सोचा है उन कार्यो को निरंतर करते रहे यानि के उस काम को करना छोड़े नहीं या फिर अन्तर दे देकर ना करे। अगर आप लोग उस काम को लगातार करते रहेंगे तो उस काम को करना आप लोगो की एक आदत बन जाएगी। तब हम ये कह सकते है की आप लोगो ने अपनी जिंदगी में अच्छी आदतों को जगह दी है।



0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.