आत्मविश्वास बढ़ाने के आसान तरीके

आत्मविश्वास बढ़ाने के आसान तरीके

कई लोगों में विश्वास की बहुत कमी रहती है उसी कारण उनमे प्रतिभा होने के बावजूद भी वो अपनी प्रतिभा नहीं दिखा पाते। कोई विश्वास के अभाव के कारण मंच पर बोलने से डरते है। विश्वास की कमी के कारण कोई भी किसी बड़े या विश्वासी व्यक्ति के सामने बोलने की हिम्मत नहीं कर पाता। पढ़िए ये कुछ ख़ास टिप्स और लोगो को अपने आत्मविश्वास से प्रभावित करे।खुद का आत्मविश्वास बढ़ाने का सबसे पहला और सबसे जरूरी बिंदु, आपको अपनी बुनियादी चीजो पर ध्यान देना होगाकल्पना कीजिये की आप कोई भी कार्य करते है जैसे की आप बिज़नेस करते हो, नौकरी करते हो, अगर आप स्टूडेंट्स हो सबको अपनी बेसिक जरूरतों के बारे में पता होना बहुत जरुरी है इससे आपके अंदर के विश्वास  में सुधार होने लगता है।

आत्मविश्वास बढ़ाने के आसान तरीके

कहते हैं की अगर जीवन में सफलता के नए पैमानों को छूना है तो सबसे ज़रूरी चीज़ें हैं इच्छाशक्ति, उत्साह, साहस, कुछ कर गुजरने का पागलपन और ज़िद। लेकिन क्या कभी सोचा है की जिस इंसान के पास वो प्राथमिक चीज़ नहीं जिसकी वजह से यह गुण इंसान में समाहित होते हैं तो वह क्या कर सकता है। वह प्राथमिक गुण या विशेषता होती है-मनोबल /आत्मविश्वास या कहें की खुद पर भरोसा।  ज़रा सोचें की अगर महात्मा गाँधी ने अकेले ही अंग्रेज़ों से लोहा लेने का सहस ना दिखाया होता, उनमे इतना मनोबल ना होता, वो  ज़िद ना होती तो क्या हम लोग इस आज़ादी का हर्ष मना पाते? नहीं। अगर अरुणिमा सिन्हा साहस ना दिखाती तो क्या विश्व के सबसे ऊँचे शिखर एवेरेस्ट की चोटी को छू पाती? नहीं।  इंसानों की प्रवृत्ति बड़ी अजीब होती है, वे उस इंसान के आस - पास ही  रहना चाहते हैं जिसमे वो गुण होते हैं जो उनमे खुद नहीं। इसलिए  सिर्फ समाज और विश्व  में बल्कि अपनी नज़र में भी इंसानो का सम्मान करना है तो आत्मविश्वास होना बेहद ज़रूरी हो जाता है। हम यहाँ पर कुछ ऐसी बातें साझा कर रहे हैं जो आपको अपना मनोबल बढ़ाने में  बहुत सहायक और महत्वपूर्ण सिद्ध होंगी।


अपने आपसे शीशे के आगे खड़े होकर कहेंतुम कुछ भी हासिल कर सकते हो, तुम हर नहीं सकते, तुम एक विजेता हो, तुम जो ठान लो वो तुम्हारा है। बड़े बड़े वैज्ञानिको और विशेषज्ञों द्वारा ये बात सिद्ध की जा चुकी है की आत्मविश्वास बढ़ाने का सबसे ठोस और कारगर तरीका कुछ है तो वो स्व अभिप्रेरण है। इससे मनुष्य में एक अविश्वसनीय बदलाव आता है और इंसान ऊर्जा और उत्साह से भर जाता है।भगवान् ने इंसान को ऐसा बनाया,उसे इतने गुणों से संवारा है की वो जो ठान ले सब कुछ हासिल कर सकता है। आपको भी यही करना है। आप अपने शौक को ही अपने जीवन का लक्ष्य बना लें तो आप क्या नहीं पा सकते। हो सकता  है की आपके अंदर एक बेहतरीन पेंटर छुपा है, आप एक खुबसुरतरीन नृतक/नर्तकी बन सकते हैं, आप कोई विश्वविजेता खिलाडी बन सकते हैं या अपनी कलम से लोगों के नायक बन सकते हैं। लेकिन आपने अपनी क्षमताओं को सिर्फ शौक तक ही सीमित कर दिया है।  इस शौक को एक पायदान ऊपर ले जाएं, फिर देखें आपका आत्मविश्वास भी चार पायदान ऊपर होगा।


अपने नकारात्मक विचारों को पहचाने ->> आपके नकारात्मक विचार ही आपके आत्मविश्वास को कम करते है। इन नकारात्मक विचारो में ज्यादा इस प्रकार के विचार आते है "में ऐसा नहीं कर सकता हूँ या में ऐसा नहीं कर पाउँगा", "में कुछ भी नहीं हूँ", अगर में ऐसा करता हूँ तो ये सही होगा या गलत". "लोग क्या कहेंगे, क्या सोचेंगे, ये कैसे करे"

ऐसे अलग अलग प्रकार के मन में बहुत सवाल आते है जिसके कारण खुद का आत्मविश्वास कम हो जाता है। ये हमेशा याद रखो जो टेलेंट आप में है दूसरे किसी में है। आप खुद को महत्त्व देना स्टार्ट करे। बाकि दुनिया अपने आप महत्त्व देने लगेगी। खुद में बदलाव लाना बहुत जरूरी है।

यह भी पढ़ें ->> Communication Skill को कैसे बढ़ाए

सकारात्मक विचार जो की बहुत जरूरी है, उससे आपकी जिंदगी बदल जाएगी। दिन की शुरुआत सकारात्मक विचारो से शुरू करे। इससे हमारा 90% आत्मविश्वास बढ़ जाता है। पहले तो नकारात्मक विचारो को सकारात्मक विचारो में बदले जैसे की "में ये कर सकता हूँ", "सब लोग मेरी बात सुनेगे", "आज का दिन मेरा बहुत अच्छा जायँगे" ऐसे सकारात्मक विचारो से अगर आप दिन की शुरुआत करते हो तो पूरा दिन अच्छा जाता है। एक दिन ये प्रयोग करके देखिये, आप खुद ही मान जाओगे, की इसमें क्या जादू है।

सकारात्मक नेटवर्क बनाये रखे ->> जहाँ नकारात्मकता आती है, वहां उत्साह और ख़ुशी जैसे शब्दों की कोई जगह नहीं रह जाती। अगर आप खुद सकारात्मकता से परिपूर्ण हैं, तो सिर्फ आप अपने आपको कुछ बेहतर, कुछ अभिनव, कुछ रचनात्मक करने के लिए प्रेरित करते हैं बल्कि अपने आस - पास के लोगों के लिए भी प्रेरणा के स्त्रोत बन जाते है।


आप सोचते होंगे ये होगा कैसे - बड़ा आसान है, अगर प्यास लगी है तो कुए के पास जाते हैं, वैसे ही अगर उत्साह की कमी या नकारात्मक ऊर्जा को आस पास - महसूस कर रहे हैं तो ऐसे लोगों के साथ उठें बैठें जो हमेशा मुस्कुराते हों, सकारात्मक बातें करते हों, लोग उनकी बुराई से पहले उनकी अच्छे को देखते हों। ऐसा करके आप अपना मनोबल बढ़ाने की पहली सीडी तो चढ़ ही लेंगे।

यह भी पढ़ें ->> सफलता कैसे पाएं

अपनी प्रतिभा को पहचाने ->> हर कोई अच्छा है, इसलिए  अपने अंदर की प्रतिभा को जाने। या सब अपने कला, संगीत, लेखन, नृत्य के बारे में है। जिस कारण हम अपने ही अंदर की प्रतिभा को अच्छी तरह जानकर अपना आत्मविश्वास बढ़ा सकते है।


अपने आप पर गर्व करें ->> आपको अपनी कौशल्या और प्रतिभा पर गर्व महसूस करना चाहिए। इस कारण से आप अपना आत्मविश्वास बढ़ा सकते है। खुद के अंदर की प्रतिभा को जानिए। जैसे की "मैं इस तनाव का पूरी तरह सामना कर सकता हूँ" ऐसे सकारात्मक विचारो से और खुद पर गर्व करने से अपना आत्मविश्वास बढ़ जाता है।

खुद को चुनौतियाँ दीजिये - >>  ये आत्मविश्वास बढ़ाने का रोज़मर्रा के जीवन में सबसे बेहतर उपाय हो सकता है। आप जो काम करते हैं उसमे अपने आपको ही चुनौती दें, कसरत कर रहे हैं तो अपने आप को थोड़ा और ज़्यादा करने को मजबूर करें, गा रहे हैं तो ऊँचे सुर पकड़ने की कोशिश करें, किसी काम को करने बैठ गए हैं तो तब तक ना उठें जब तक संतुष्ट हो जाएं, चाहे काम कितना भी कठिन क्यों हो। लेखन करते हैं तो अपनी क्षमताओं से आगे लिखने की सोचें, नृतक हैं तो कुछ नए कदम बनाएं और उन्हें बेहतर करने की कोशिश करें।


इन सब उपायों के आलावा और भी कई कई छोटी छोटी चीज़ें हैं जिन्हे अपनाकर आप अपने आत्मविश्वास की चरम सीमा को छू सकते हैं।
नए खेल खेलें, आये तो भी सीखने का प्रयास करें।
नकारात्मक लोगों और उनकी ऊर्जा से एक खास दूरी बनाकर रहे।
हर दिन का एक नया लक्ष्य बनाएं, चाहे ऑफिस समय पर पहुंचना हो या दिनभर का काम एक तय समय पर निपटना हो।



0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.