अकाउंट्स में करियर बनाने के आसान टिप्स

अकाउंट्स में करियर बनाने के आसान टिप्स

दोस्तों दुनिया में बहुत प्रकार के लोग होते है और सबकी पसंद और इच्छा अलग अलग होती है। हर कोई अपने लाइफ में कुछ ना कुछ करना चाहता है हर कोई ये चाहता है की उसका एक बेहतर करियर बने। कुछ लोग एकाउंट्स में अपना करियर बनाना चाहते है ऐसे लोगो को हमेशा ऐसे मार्गदर्शक की ज़रुरत पड़ती है जिससे उन्हें अपने करियर को खरा करने में थोड़ी आसानी हो। आज हम कुछ ऐसे ही टिप्स उन लोगो के लिए लाये है जिन्हे एकाउंट्स में रूचि है और वो एकाउंट्स में अपना करियर बनाना चाहते है। हमें पूरी उम्मीद है की इस लेख को पूरा पढ़ने के बाद उन लोगो को अपना रास्ता थोड़ा नहीं तो थोड़ा जरूर आसान लगने लगेगा और मंजिल पास लगने लगेगी। एकाउंट्स में करियर बनाने के लिए या अकाउन्टेन्ट बनने के लिए उच्च शिक्षा औपचारिक प्रमाणीकरण तथा इस उद्योग में दृढ प्रतिबद्धता होना आवश्यक है। आईये जानते है की कुछ टिप्स जिससे आप सफल अकाउन्टेन्ट बन सकते है। एकाउंट्स में करियर कैसे करे चार्टर्ड अकाउन्टेन्ट बन सकते है।

अकाउंट्स में करियर बनाने के आसान टिप्स
अकाउंट्स में करियर बनाने के आसान टिप्स
Check Here ->> Latest CA Jobs

अगर आपने फैसला कर लिया है कि आपको एक अकाउंटेंट ही बनना है तो एकाउंटिंग में भी बहुत सारे विकल्प होते है। तो आपको सबसे पहले ये चुनना होगा की आप किस क्षेत्र में अपने करियर को आगे बढ़ाना चाहते है। आप अपने आप से ये प्रशन पूछिए की आपको किस क्षेत्र में जाना है। तो आप ये सब फाइनल कर ले और उसके बाद अपनी कोशिश को आगे बढ़ाये। आप एक चार साल के मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय कार्यक्रम में हिस्सा ले और लक्ष्य बनाये की आपको अकाउंटेंट, अर्थशास्त्र, बिजनेस मेन डिग्री चाहिए। अगर आपके पास पहले से ही स्नातक डिग्री है तो ये आपके लिए और भी अच्छा है आगे बढ़ने के लिए आप अतिरिक्त क्लास ले सकते है और अपनी कुशलता को संख्यात्मक और अन्य खाता संबंधित विषय में उसे कर सकते है। अपनी क्लास में गणित या व्यापार संबंधित विषय में अच्छी ग्रेड ले क्योकि अकाउंट के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए आपका गणित में अच्छा होना बहुत ही ज़रूरी है।


अधिकतर एकाउंटेंट महाविद्यालय जाकर स्नातक उपाधि लेते है ये एक न्यूनतम आवश्यकता है अगर आप एक चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना चाहता है। कुछ राज्यों मर स्नातक के अलावा उच्च पाठ्यक्रम का ज्ञान होना आवश्यक है फिर चाहे आपके पास वित्तीय रिपोर्टिंग, टैक्स, ऑडिटिंग या अन्य गैर एकाउंटिंग क्षेत्रो में स्नक्तत्ता हो। सभी एकाउंटेंट तथा चार्टर्ड अकाउंटेंट एक या एक से अधिक उपविषयों में विशेषता चुनते है। दो सामान्य विशेष क्षेत्र है सार्वजनिक लेखा या कॉर्पोरेट या व्यापार लेखांकन। इसके अलावा कई उपविषये क्षेत्र भी है जैसे की पर्यावर्तन एकाउंटिंग, अंतरिया ऑडिटिंग, प्रबंधकीय एकाउंटिंग तथा टेक्सेस आदि।


एकाउंटेंट और चार्टर्ड अकाउंटेंट के बीच चुने ->> एकाउंटेंट अक्सर केवल एकाउंटिंग विभाग में ही नियुक्त किये जाते है। उनके पास राज्य प्रमाण पत्र या लाइसेंस होना अनिवार्य नहीं होता है। परन्तु वे अव्दित नहीं कर सकते। चार्टर्ड अकाउंटेंट के पास केवल महाविद्यालयों की डिग्री होनी चाहिए बल्कि चार्टर्ड अकाउंटेंट के सारे परीक्षाओ में उत्तीर्ण होना पड़ता है तथा किसी लाइसेंस चार्टर्ड अकाउंटेंट के तहत 1800 घंटे काम करने का अनुभव होता है। चार्टर्ड अकाउंटेंट अव्दित भी कर सकता है एवं अपने ग्राहकों के लिए IRS के सामने पेश हो सकते है। इनमे से एक चुनने के लिए आपको ये देखना पड़ेगा की आपकी महत्वकांशा रुझान तथा व्यक्तित्व किस तरफ है।


अपने एग्जाम की तैयारी अच्छे से करे ->> आप एग्जाम के लिए किसी भी हालत में अप्रस्तुत रहे साथ साथ आप एग्जाम के लिए क्रीमिंग  ना करे आपने जो कुछ भी पढ़ा है उसको एग्जाम के एक दिन पहले ज़रूर संशोधन कर ले ताकि आपके दिमांग में वो बाते फिट रहे।


योग्यता परीक्षा ले लो ->> विभिन्न देश में और लेखा संगठन में विभिन्न एग्जाम प्रारूप होते है और वो सब चाहते है की आप उनके द्वारा लिए गए मूल्यांकन टेस्ट में पास करे। ऐसे टेस्ट में हर गलत उत्तर के लिए 0.25 मार्क काट लिए जाते है। इसलिए ऐसे एग्जाम में आप इतना ही लिखे जितना आपको पक्का आता हो।

किसी ज्ञानी पुरुष की सलाह लीजिये ->> आप एक ऐसा गुरु ढूंढिए जो आपके करियर को बनाने में उपयोगी हो इस फिल्ड में आपके लिए एक गुरु का साथ बहुत उपयोगी साबित हो सकता है।

चार्टर्ड अकाउंटेंट परीक्षा उत्तीर्ण करिये ->> ये हर राज्य के लिए अनिवार्य है कि आप चार्टर्ड अकाउंटेंट के चारों भागो की परीक्षाओं में उत्तीर्ण हो। ये परीक्षा हर तिमाही के प्रथम दो महीनो में होती है। प्रत्यर्थी किसी भी प्रणाली में इनमे हिस्सा ले सकते है। और एक परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद बाकि की परीक्षाएं अगले 18 महीनो में देनी पड़ती है। इस परीक्षा की तैयारी के लिए अधिकतर प्रत्येति प्रिवेट कोचिंग की मदद लेते है।

इंटर्नशिप करे ->> स्नातक होने से पहले एकाउंटिंग इंटर्नशिप कर ले या किसी और तरह से अनुभव ले आती ताकि आपका बायो डाटा आकर्षक लगे। बायोडाटा अद्यतन कर विभिन वेबसाइटों में अपलोड करे जिससे की आप नौकरी के लिए अप्लाई कर सके।

नौकरी के साथ पढ़ाई करे ->> नौकरी मिलने के बावजूद पढ़ाई से नाता तोड़े। अगर अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट ना किया हो तो वो कर ले। या फिर master's या प्रमाणपत्र कोर्स करे।

विभिन्न क्षेत्र उपलब्ध है ->> एकाउंटिंग के विभिन्न क्षेत्रों में आप अपना करियर बना सकते है जैसे की ऑडिटिंग, टैक्सेशन, फोरेंसिक एकाउंटिंग

अन्य कुशलताएँ ->> सफल अकाउंटेंट या चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने के लिए गणित का ज्ञान होना अनिवार्य है विश्लेषणात्मक कौसल होना भी ज़रूरी है। दूसरो से वार्तालाप करने का हुनर होना चाहिए।

अन्य उपाध्याय ->> एकाउंटिंग उपाधि होने के अलावा एक पॉजिटिव व्यवसाय बनाने के लिए अन्य उपाधि जैसे CFA, CGMA, CIA, CISA, CMA, CPP, MBA, PMP भी होना अच्छा है।

लागत लेखाकार प्रतिबंध धीरे शार्क ->> एक लागत और प्रबंधन एकाउंटेंट का काम होता है किसी भी चीज़ के बनाने की लगत का हिसाब करना, उस चीज की सही कीमत लगाना, टैक्सेशन प्रमाणपत्र लेना आदि। एक चार्टर्ड अकाउंटेंट की बजाए एक लागत लेखाकार की ज़रुरत लगभग हर विभाग में पड़ती है जैसे विपणन, उत्पादन, खरीद आदि

कंपनी सचिव ->> एक कंपनी सचिव प्रबंधकों तथा समूह के मालिकों के बीच में दलाल की तरह काम करता है। उनका काम कानूनी दस्तावेजों को संभालना साझेदारी करवाना, जन समुदाय के हितों का ध्यान रखना होता है।

प्रमाणित वित्तीय योजनाकार प्रतिबंध ->> इस पाठ्यक्रम में आपको टैक्स योजना, बीमा योजना, भूमि भवन बिक्री व्यापार की अच्छी जानकारी दी जाती है। इससे आपको बैंक अन्य संस्थानों में अच्छी नौकरी प्राप्त हो सकती है।

चार्टर्ड वैकल्पिक निवेश विश्लेषक प्रतिबंध ->> ये विश्लेषग्य विकल्पीय निवेश नीतियों की जानकारी एवं सलाह देने का कार्य करते है।

सॉफ्टवेयर का ज्ञान ->> आज की तकनीकी दुनिया में विभिन्न एकाउंटिंग कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का ज्ञान होना चाहिए।

अन्य क्षेत्रों में लेखांकन ->> आपकी एकाउंटिंग की पढ़ाई आपको अन्य क्षेत्रों में भी नौकरी दिला सकती है जैसे खुदरा बैंकिंग, बीमा, शेयर बाजार, बीमांकिक निवेश नीतियां आदि।

वैकल्पिक क्षेत्र ->> अन्य पेशे जैसे विज्ञापन, सिविल सेवा, कानून आदि में भी आपकी एकाउंटिंग की पढाई आपका करियर बना सकती है।

अपने क्षेत्र में नेटवर्क ->> इस क्षेत्र में अपने करियर को बनाने के लिए दूसरे एकाउंटेंट के साथ नेटवर्क बनाये। आप जब अपनी ही क्षेत्र के दूसरे पेशेवरों से मिलेंगे तब आपको काफी ज्यादा अनुभव मिलेगा और तब आप इस क्षेत्र से जुडी अपनी किसी भी परेशानी को आसानी से सभाल सकते है।




0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.